दीपावली या दिवाली क्या हैं ? शुभ मुहूर्त , लक्ष्मी गणेश पूजन विधि और बधाई सन्देश हिंदी में !

हिंदू पंचांग के अनुसार, प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह में अमावस्या तिथि को दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। दीपों का ये त्यौहार अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में मनाया जाता है। पूरे भारत में इस पर्व पर  अलग ही हर्ष और उल्लास देखने को मिलता है। इस दिन पूरा देश दीये को रोशनी से जगमगा उठता है। हिंदू धर्म में दीपावली को सुख-समृद्धि प्रदान करने वाला त्यौहार माना जाता है।दीपावली क्यों मनाया जाता है diwali essay in hindi दीपावली निबंध हिंदी में

प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह में अमावस्या तिथि को दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। दीपों का ये त्यौहार  अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में मनाया जाता है।
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

हालांकि, इस बार दीपावली की तिथि को लेकर थोड़ा सा असमंजस है। क्योंकि इस साल अमावस्या तिथि पर सूर्य ग्रहण भी लग रहा है। शास्त्रों के अनुसार, ग्रहण के दौरान किसी भी तरह के मांगलिक और शुभ कार्यों को करने की मनाही होती है।

दीपावली शुभ मुहूर्त 2022

  • इस साल कार्तिक माह की अमावस्या तिथि 24 और 25 अक्टूबर दोनों दिन पड़ रही है। लेकिन 25 अक्टूबर को अमावस्या तिथि प्रदोष काल से पहले ही समाप्त हो रही है। वहीं 24 अक्टूबर को प्रदोष काल में अमावस्या तिथि होगी।
  • दीपावली के दिन रात के समय लक्ष्मी पूजन करने का विधान है। इसलिए 24 अक्टूबर को ही महालक्ष्मी की पूजा की जाएगी।
  • इस साल लक्ष्मी पूजा का मुहूर्त शाम 07:26 बजे से रात 08:39 बजे तक है। 

दीपावली का महत्त्व

दीपावली बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री राम ने लंकापति रावण पर विजय प्राप्त की थी और इसी दिन वे 14 वर्ष का वनवास पूरा कर भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में लोगों ने पूरे अयोध्या को दीयों को रोशनी से सजा दिया था। तभी से पूरे देश में दीपावली मनाई जाती है। इस दिन लोग दीपक जलाकर खुशियां मनाते हैं। दीपावली मिलन का पर्व है इस दिन सभी लोग एक दूसरे के घर जाकर मिठाइयां बांटते हैं।

अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में मनाया जाता है। दीपावली या दिवाली क्या हैं ? शुभ मुहूर्त , लक्ष्मी गणेश पूजन विधि और बधाई सन्देश हिंदी में !
अधर्म पर धर्म की विजय का त्यौहार

धार्मिक मान्यता है कि इस दिन मां लक्ष्मी अपने भक्तों के घर पर पधारती हैं और उन्हें धन-धान्य का आशीर्वाद प्रदान करती हैं।

दीपावली पर लक्ष्मी-गणेश पूजन विधि

  • सर्वप्रथम पूजा स्थल पर चौकी स्थापित करें और उस पर लाल कपड़ा बिछाएं।
  • अब चौकी पर माँ लक्ष्मी, देवी सरस्वती और भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करें।
  • भगवान विष्णु, कुबेर और इंद्र देव के लिए माता लक्ष्मी के समक्ष कच्चे चावल से 3 ढेरी का निर्माण करें।
  • लक्ष्मी पूजा का आरम्भ करने के लिए दीपक प्रज्जवलित करें व रात भर दीपक जलाकर रखें। इसके अलावा धूप बत्ती दिखाएं।
  • लक्ष्मी पूजा के दौरान श्रीगणेश का आवहान करें और गणेशजी की मूर्ति पर रोली व अक्षत का तिलक करें।
  • इसके बाद भगवान गणेश को सुगंध, फूल, धूप, मिठाई (नैवेद्य) और मिट्टी के दीपक अर्पित करें। गणेश जी के बाद लक्ष्मी पूजन करें और माँ लक्ष्मी का रोली और चावल से तिलक करें।
  • माता लक्ष्मी को गंध, फूल, धूप और मिठाई अर्पित करें। अब देवी लक्ष्मी को धनिया के बीज, कपास के बीज, सूखी साबुत हल्दी, चांदी का सिक्का, रुपये, सुपारी और कमल के फूल चढ़ाएं।
  • सबसे अंत में देवी लक्ष्मी की आरती करें।
  • अगर आप माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति के लिए मंत्र का जप करना चाहते हैं, तो देवी लक्ष्मी का सबसे शक्तिशाली मंत्र “श्रीं स्वाहा” का कम से कम 108 बार जाप करें।

इसे भी पढ़े- Latest News- What is Puranic History of GyanVapi Maszid? जानिए ज्ञानवापी का पौराणिक इतिहास एवं विवाद

दीपावली के 5 दिन क्या होता हैं ?

जैसा कि हम जानते हैं की दीपावली 5 दिनों का पर्व होता हैं आइए जानते है इन पांच दिनों के बारे में-

  • दिवाली का पहला दिन धनतेरस के नाम से जाना जाता है जिसका अर्थ है घर में धन और समृधि का आना। लोग बर्तन, सोने और चॉदी के सिक्के, और अन्य वस्तुऍ खरीद कर इस विश्वास के साथ अपने घर लाते है कि घर में धन की वृद्धि होगी।
  • दिवाली का दूसरा दिन नरक चतुर्दशी के नाम के जाना जाता है, जो इस विश्वास के साथ मनाया जाता है कि भगवान कृष्ण द्वारा राक्षस नरकासुर को हराया गया था।
  • दिवाली का तीसरा दिन अमावस्या के नाम के जाना जाता है जो हिन्दू देवी लक्ष्मी (धन की देवी) की पूजा के इस विश्वास के साथ मनाया जाता है, जो सभी इच्छाओं की पूर्ति करती है।  यह माना जाता है कि राक्षस और देवताओं द्वारा समुन्द्र मंथन के समय देवी लक्ष्मी दूध के समुन्द्र (क्षीर सागर) से कार्तिक महीने की अमावस्या को ब्रह्माण्ड में आयी थी। 
  • दिवाली का चौथा दिन बली प्रदा के नाम से जाना जाता है जो भगवान विष्णु की कथा से सम्बंधित है जिन्होंने अपने वामन अवतार में राक्षस राजा बलि को हराया था। बलि बहुत महान राजा था किन्तु पृथ्वी पर शासन करते हुये वह लालची हो गया क्योंकि उसे भगवान विष्णु द्वारा असीमित शक्तियों की प्राप्ति का वरदान मिला था। गोर्वधन पूजा इस विश्वास के साथ भी मनाया जाता है कि भगवान कृष्ण ने असहनीय काम करके इन्द्र के गर्व को हराया था।
  • दिवाली का पॉचवा दिन यम द्वितीया या भाई दूज के नाम से भी जाना जाता है जो मृत्यु के देवता “यम” और उनकी बहन यामी के इस विश्वास के साथ मनाया जाता है। लोग इस दिन को बहन और भाई के एक दूसरे के प्रति प्रेम और स्नेह के उपलक्ष्य में मनाते है।
भगवान विष्णु की कथा से सम्बंधित है जिन्होंने अपने वामन अवतार में राक्षस राजा बलि को हराया था।
Happy Deepawali

दीपावली बधाई सन्देश हिंदी में Diwali wish Quotes in Hindi

दीपावली के इस पवन अवसर पर हम आपके लिए लेकर आये हैं दीपावली बधाई सन्देश, Diwali wish Quotes in Hindi इन्हें आप अपने मित्रजनों, रिश्तेदारों और परिवारजनों से share करें-

रोशनी से हो रोशन हर लम्हा आपका, खुशियों की बोलचाल हो आपके आँगन में!! यह दिवाली आपके लिए मंगलमय हो

दीवाली है रौशनी का त्यौहार लाये हर चेहरे पर मुस्कान सुख और समृधि की बहार समेट लो सारी खुशियाँ अपनों का साथ और प्यार इस पावन अवसर पर आप सभी को दीवाली का प्यार !! शुभ दीवाली

दीवाली का ये पावन त्योहार, आपके जीवन में खुशियाँ लाये अपार, लक्ष्मी पधारे आपके द्वार, शुभकामनाएं हमारी करें स्वीकार!!

लाखों दीपक आपके जीवन को अनंत खुशी, समृद्धि, स्वास्थ्य और धन से हमेशा के लिए रोशन करें!! आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

दियों की रोशनी से झिलमिलाता सभी का आँगन हो, पटाखों की गूँज से सारा आसमां रोशन हो, ऐसी आये झूम के यह दिवाली, हर तरफ़ सिर्फ खुशियों का ही मौसम हो!! Happy Diwali

दीवाली के इस मंगल अवसर पर माँ लक्ष्मी आप सभी की मनोकामना पूरी हों, सफलता आपके कदम चूमे,  इसी शुभकामना के साथ आप सभी को दिवाली की ढेर सारी बधाई!! हैप्पी दिवाली

दिवाली का तीसरा दिन अमावस्या के नाम के जाना जाता है जो हिन्दू देवी लक्ष्मी (धन की देवी) की पूजा के इस विश्वास के साथ मनाया जाता है, जो सभी इच्छाओं की पूर्ति करती है।
शुभ दीपावली

सही मायनों में दीपावली का अर्थ है एक-दूसरे के प्रति सभी बुराइयों, क्रूरता और घृणा को समाप्त करना। त्योहार की भावना का जश्न मनाने के लिए चलो एक साथ हो जाये!! दीपावली की शुभकामनाएँ

दीपों की रोशनी से जगमग हो ये सारा संसार, मुबारक हो आपको और आपके परिवार को दिवाली का ये त्यौहार । शुभ दिपावली !!

दीये से दीये को जला कर दीप माला बनाओ, अपने घर आंगन को रौशनी से जगमगाओ, आप और आप के परिवार की दिवाली शुभ और मंगलमय हो!! दिवाली की ढेर सारी हार्दिक शुभकामनाएँ॥

बचपन की मीठी यादों से भरा त्योहार, आतिशबाजी से भरा आसमान, मिठाइयों से भरा मुंह, दीयों से भरा घर और खुशियों से भरा दिल!! आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

लक्ष्मी जी विराजें आपके द्वार, सोने चाँदी से भर जाए आपका घर बार, जीवन में आयें ख़ुशियाँ अपार, शुभकामना हमारी करें स्वीकार!! दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं, शुभ दिवाली

लाखों दीपक आपके जीवन को अंतहीन समृद्धि, स्वास्थ्य और धन के साथ हमेशा के लिए रोशन करें!! आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

मीठी यादों से भरा त्योहार, आतिशबाजी से भरा आसमान, मिठाइयों से भरा मुंह, दीयों से भरा घर और मौज-मस्ती से भरा दिल!! दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

दीपक की रौशनी से झिलमिलाता आँगन हो, पटाख़ों की गूँज से आसमान रोशन हो, ऐसे झूम के आये यह दिवाली, हर तरफ खुशियों का माहौल आपका हो, दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं!!  शुभ दिवाली 2022

इस दिवाली में यही कामना है कि सफलता आपके कदम चूमे और खुशी आपके आसपास हो। माता लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहे!!

दीपक की ज्योति से आपको जीवन में उजाला मिले  दिवाली की मिठाईयों से ज्यादा रिश्तो में मिठास बने
दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ

दीपक की ज्योति से आपको जीवन में उजाला मिले  दिवाली की मिठाईयों से ज्यादा रिश्तो में मिठास बने इस दीपावली लक्ष्मी जी आपसे इतने खुश हो कि हर दिन, हर पल, हर लम्हा आपका हर काम बने!!  दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

FAQ Questions

दीपावली कब है 2022 में ?

24 अक्टूबर 2022 को दीपावली का पर्व मनाया जाएगा।

दीपावली कब मनाई जाती हैं?

प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह में अमावस्या तिथि को दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। दीपों का ये त्यौहार  अधर्म पर धर्म की विजय के रूप में मनाया जाता है।

दीपावली क्यों मनाई जाती हैं?

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान श्री राम ने लंकापति रावण पर विजय प्राप्त की थी और इसी दिन वे 14 वर्ष का वनवास पूरा कर भगवान राम के अयोध्या लौटने की खुशी में लोगों ने पूरे अयोध्या को दीयों को रोशनी से सजा दिया था। तभी से पूरे देश में दीपावली मनाई जाती है। इस दिन लोग दीपक जलाकर खुशियां मनाते हैं। दीपावली मिलन का पर्व है इस दिन सभी लोग एक दूसरे के घर जाकर मिठाइयां बांटते हैं।

दीपावली के दिन किसकी पूजा की जाती हैं?

दीपावली के दिन माता लक्ष्मी, गणेश जी और भगवान कुबेर की पूजा की जाती हैं।

Leave a Comment