Best 16 Life Changing Lord Mahavira Quotes in Hindi और महावीर स्वामी की जीवनी

महावीर जयंती जैन धर्म के चौंबीसवें (24वें) तीर्थंकर भगवान महावीर के जन्मदिवस  के दिन प्रत्येक वर्ष मनाया जाता है। इस वर्ष 14 अप्रैल 2022 को महावीर जयंती मनाई जायेगी । Lord Mahavira Quotes in Hindi इस दिन को महावीर स्वामी के जन्म कल्याणक  दिवस के नाम से भी मनाया जाता  है।

महावीर जयंती हर वर्ष चैत्र माह के 13 वे दिन मनाई जाती है, जो अंग्रेजी केलेन्डर के हिसाब से मार्च या अप्रैल मे आती है। इस दिन हर तरह के जैन दिगम्बर, श्वेताम्बर आदि एक साथ मिलकर इस उत्सव को मनाते है ।

महावीर स्वामी का जन्म

महावीर स्वामी का जन्म लगभग 2500 वर्ष ( ईसा से ५९९ वर्ष) पूर्व हिन्दू पंचांग के अनुसार चैत्र मास के 13 वे दिन बिहार के वैशाली जिला के कुण्डग्राम में अयोध्या इक्ष्वाकुवंशी क्षत्रिय परिवार हुआ था। उनके पिता राजा सिद्धार्थ (वैशाली के कुण्डग्राम गणराज्य के राजा थे ) और माता रानी त्रिशाला थी।

ऐसा माना जाता है महावीर स्वामी के जन्म पश्च्यात उनके राज्य में उन्नति बढ़ जाने के कारण उनका नाम वर्धमान रखा गया।

महावीर स्वामी का विवाह

बचपन से ही महावीर स्वामी की रूचि भोग विलास में नहीं थीवो विवाह नहीं करना चाहते थे , परन्तु उनके माता पिता ने उनका विवाह यशोदा नामक कन्या से श्वेताम्बर परंपरा के अनुसार करवाया। जिससे कालांतर में एक कन्या का जन्म हुआ जिसका नाम  प्रियदर्शिनी रखा गया। युवावस्था में उस कन्या का विवाह राजकुमार जमाली के साथ संपन्न हुआ।

महावीर स्वामी की तपस्या

मात्र 30 वर्ष की आयु में महावीर स्वामी ने राज वैभव त्याग दिया और संसार से विरक्त होकर सन्यास धारण कर आत्मकल्याण की राह पर निकल गए। 12 वर्षो की कठिन तपस्या के बाद उन्हें केवलज्ञान प्राप्त हुआ।

जैन दर्शन के अनुसार केवल विशुद्धतम ज्ञान को कहते हैं। इस ज्ञान के चार प्रतिबंधक कर्म होते हैं- मोहनीय, ज्ञानावरण, दर्शनवरण तथा अंतराय। इन चारों कर्मों का क्षय होने से केवलज्ञान का उदय होता हैं। 

दीक्षा  लेने के  उपरान्त महावीर स्वामी ने दिगंबर साधु की कठिन चर्या  को स्वीकार किया  और निर्वस्त्र रहे। जिस युग में पशुबलि, हिंसा, जात- पात का भेदभाव बढ़ता है उसी युग में भगवान महावीर का जन्म होता है।

Lord Mahavira Quotes in Hindi महावीर स्वामी की जीवनी जयंती Desigyani
Mahavir Swami Quote

महावीर स्वामी जी के उपदेश

महावीर स्वामी ने केवल ज्ञान प्राप्ति के पश्च्यात उपदेश दिया। उनके 11 मुख्य शिष्य थे जिनमे प्रथम इंद्रभूति गौतम थे।

महावीर स्वामी  ने अपने उपदेशों के द्वारा मनुष्यों को सही राह पर चलने का मार्गदर्शन दिया। अपने चित को शांत करके मोक्ष की प्राप्ति के लिए महावीर स्वामी त्रि-रत्न सही विश्वास, सही ज्ञान और सही आचरण होना

महावीर स्वामी के पांच सिद्धांत

महावीर स्वामी ने निम्नलिखित पांच सिद्धांत सत्य , अहिंसा, अचौर्य, अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य बताये है जिसका हर मनुष्य को अनुसरण करना चाहिए।

सत्य

भगवान महावीर स्वामी कहते हैं, हे पुरुष! तू सत्य को ही सच्चा तत्व समझ । जो मनुष्य सत्य की राह पर चलता है वह मृत्यु को भी तैरकर पार कर जाता है।

 अहिंसा

भगवान महावीर अपने अहिंसा के उपदेश में हमें ये शिक्षा प्रदान करते है कि इस लोक में जितने भी इन्द्रियों वाले जीव है उनकी हिंसा मत कर, उनके मार्ग में अवरोध उत्पन्न मत करो। जीवों के प्रति अपने मन में दया भाव रखो, उनकी रक्षा करो।

अचौर्य

किसी दूसरे व्यक्ति की वस्तु को बिना उसकी आज्ञा के ग्रहण नही करना चाहिए, बिना अनुमति के ग्रहण या उपयोग करना जैन धर्म में चोरी के समान है।   

अपरिग्रह

महावीर स्वामी अपने अपरिग्रह उपदेश के माध्यम से लोगो को ये सन्देश देना चाहते है कि जो मनुष्य सजीव या निर्जीव चीजों के मोह में फंसा रहता है और उसका संग्रह करता है और दूसरों को भी सजीव निर्जीव चीजो के संग्रह करने की सहमति देता है, वो मनुष्य कभी भी अपने दुःखों से छुटकारा नहीं पा सकता।

ब्रह्मचर्य

ब्रह्मचर्य एक उत्तम तपस्या है। जिसका पालन करने के किये नियम, ज्ञान, दर्शन, चारित्र, संयम की आवश्यकता है। तपस्या में ब्रह्मचर्य श्रेष्ठ तपस्या है। इस सिद्धांत का पालन करने के लिए मनुष्य को कामुक गतिविधियों में भाग नहीं ले सकते। कहा जाता है की जो पुरुष इस सिद्धात का पालन करते है, वे मोक्ष को प्राप्त करते है।  

Lord Mahavira Quotes in Hindi महावीर स्वामी की जीवनी जयंती Desigyani
Mahavir Swami Quote

महावीर स्वामी को मोक्ष प्राप्ति

भगवान महावीर स्वामी ने ५२७ ईसापूर्व, 72 वर्ष की आयु में बिहार के पावापुरी (राजगीर) में कार्तिक कृष्ण अमावस्या को निर्वाण (मोक्ष) प्राप्त किया। महावीर स्वामी  का केवलीकाल 30 वर्ष का था।  

पावापुरी में एक जल मंदिर स्थित है जिसके बारे में कहा जाता है कि यही वह स्थान है जहाँ से महावीर स्वामी को मोक्ष की प्राप्ति हुई थी।

जैन समाज द्वारा महावीर स्वामी के जन्मदिवस को महावीर-जयंती तथा उनके मोक्ष दिवस को दीपावली के रूप में धूम धाम से मनाया जाता है।

Read More— रबीन्द्रनाथ टैगोर की जीवनी और उनके अनमोल विचार | These Famous Quotes of Gurudev Will Change Your Life

भगवान महावीर के अनमोल वचन :-

स्वयं से लड़ो, बाहरी दुश्मन से क्या लड़ना? वह जो स्वयं पर विजय कर लेगा उसे आनंद की प्राप्ति होगी।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को ना पहचानना है, और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं, और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

भगवान का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है. हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी
Lord Mahavira Quotes in Hindi महावीर स्वामी की जीवनी जयंती Desigyani
Mahavir Swami Quote

आपका इस दुनिया में कोई शत्रु नहीं है बल्कि असली शत्रु तो आपके भीतर मौजूद हैं और वे हैं- क्रोध,अहंकार,लोभ और घृणा।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है. असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं , वो शत्रु हैं क्रोध, घमंड, लालच, आसक्ति और नफरत।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

केवल वही व्यक्ति सही निर्णय ले सकता है, जिसकी आत्मा बंधन और विरक्ति की यातना से संतप्त ना हो।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

किसी को तब तक नहीं बोलना चाहिए जब तक उसे ऐसे करने के लिए कहा न जाय। उसे दूसरों की बातचीत में व्यवधान नहीं डालना चाहिए।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी
Lord Mahavira Quotes in Hindi महावीर स्वामी की जीवनी जयंती Desigyani
Mahavir Swami Quote

जैसे एक कछुआ अपने पैर शरीर के अन्दर वापस ले लेता है, उसी तरह एक वीर अपना मन सभी पापों से हटा स्वयं में लगा लेता है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

और पढ़े—> 70+ Inspirstional quotes of Dr. APJ Abdul Kalam

जागरूक नहीं है उसे सभी दिशाओं से डर है. जो सतर्क है उसे कहीं से कोई भी डर नहीं है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

जन्म का मृत्यु द्वारा, नौजवानी का बुढापे द्वारा और भाग्य का दुर्भाग्य द्वारा स्वागत किया जाता है, इस प्रकार इस दुनिया में सब कुछ क्षणिक है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

एक चोर न तो दया और ना ही शर्म महसूस करता है, ना ही उसमे कोई अनुशासन और विश्वास होता है। ऐसी कोई बुराई नहीं है जो वो धन के लिए नहीं कर सकता है।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी
Lord Mahavira Quotes in Hindi महावीर स्वामी की जीवनी जयंती Desigyani
Mahavir Swami Quote

जैसे कि हर कोई जलती हुई आग से दूर रहता है, इसी प्रकार बुराइयां एक प्रबुद्ध व्यक्ति से दूर रहती हैं।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

जितना अधिक आप पाते हैं, उतना अधिक आप चाहते हैं, लाभ के साथ-साथ लालच बढ़ता जाता है. जो 2 ग्राम सोने से पूर्ण किया जा सकता है वो दस लाख से नहीं किया जा सकता।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

एक सच्चा इंसान उतना ही विश्वसनीय है जितनी माँ, उतना ही आदरणीय है जितना गुरु और उतना ही परमप्रिय है जितना ज्ञान रखने वाला व्यक्ति।

Lord Mahavir Swami भगवान महावीर स्वामी

दोस्तो आशा करती हूँ कि महावीर स्वामी का जीवन परिचय Biography आपको पसंद आया होगा Lord Mahavira Quotes in Hindi आप स्वयं पढ़े और मित्रों को शेयर करें।

धन्यवाद।

Leave a Comment